इंदौर में हुई चमत्कार भंडाफोड़ वर्कशॉप, लगाई पानी से आग

मध्यप्रदेश के इंदौर में लोगों को जीभ में त्रिशूल डालना, खाली कागज पर भविष्य बताना, गोले में पानी से आग लगाना या फिर लैंप को पानी के जरिए जलाने जैसी ट्रिक सिखाई गईं। दरअसल, ये ट्रिक धोखा देने के लिए नहीं, बल्कि लोगों को जागरूक करने के लिए सिखाई गईं।
टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक, लोगों को ट्रिक सिखाने की ये वर्कशॉप दो युवाओं ने आयोजित की। यह दोनों जलगांव में महाराष्ट्र अंधश्रद्धा निर्मूलन समिति से जुड़े थे, उसके बाद यह इंदौर आ गए।

इंदौर के आसपास के गांव बारवा और नारले से इस वर्कशॉप में काफी संख्या में युवा शामिल हुए। उन्हें बताया गया कि अंधविश्वासी लोगों को यह समझाना चाहते हैं कि बाबा और पीर फकीर वगैरह कैसे ट्रिकों का इस्तेमाल कर चमत्कार के नाम पर बेवकूफ बना रहे हैं। युवाओं के सामने ट्रिक्स का प्रदर्शन कर दिखाया कि कैसे चमत्कार का दावा करने वाले बिना मुंह, पेट और आंतों को नुकसान हुए ट्यूबलाइट का कांच खाते हैं। इसके अलावा पानी से आग लागकर भी दिखाई गई।

वर्कशॉप के आयोजक ने कहा कि सफेद कागज पर भविष्यवाणी की ट्रिक गुलाल लगी हुई कलम के जरिए होती है। जबकि ट्यूबलाइट का कांच खाने की ट्रिक काफी केले खाने के बाद की जाती है।

कबीर जन विकास समूह के सुरेश पटेल ने बताया कि प्रतिभागी जिसे चमत्कार समझते थे, जब उन्हें ट्रिक के पीछे का सच पता चला तो वे चौंक गए। उन्होंने कहा कि इसके बाद प्रतिभागियों ने भी लोगों को जागरूक करने के लिए इस तरह की वर्कशॉप आयोजित करने का इरादा किया।

LEAVE A REPLY